विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा अक्षय ऊर्जा

संघशासित प्रदेश चण्डीगढ़ में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग की स्थापना वर्ष 1991- 92 में की गई। इसके गठन का मुख्य उद्देश्य संघशासित प्रदेश चण्डीगढ़ में घरेलू वैज्ञानिक एवं तकनीकी संस्थागत अवसंरचना का अधिकतम उपयोग करना तथा संबंधित विषयों पर विकास कार्य हेतु सुसंगत वैज्ञानिक एवं प्रौद्योगिकीय योजना तैयार करना था। गैर-परंपरागत ऊर्जा स्रोतों संबंधी कार्य भी इस विभाग को सौंपा गया। विभाग ने चण्डीगढ़ को आदर्श सौर्य शहर बनाने के लक्ष्य से इसके अंतर्गत चण्डीगढ़ अक्षय ऊर्जा तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी प्रोत्साहन सोसाइटी (सीआरईएसटी) का गठन किया।